Panjatan Pak

Saturday, 8 June 2013

बीमार की तबियत पूछने जाना सुन्नत हैं !



हुजुर-ए-अकरम सल्ललाहो अलेही वसल्लम का इरशाद हैं की जब कोई मुस्लिम सुबह में अपने दुसरे बीमार मुस्लिम भाई की तबियत पूछते को जाता हैं तो 70000 फ़रिश्ते उसके लिए शाम तक मगफिरत की दुआ करते हैं और अगर कोई शाम को तबियत पूछने जाता हैं तो 70000 फ़रिश्ते उसके लिए अगले दिन सुबह तक मगफिरत की दुआ करते हैं और उसको जन्नत में एक बाग़ दिया जायेगा.

तो दोस्तों किसी की मिज़ाज पुर्सी में कंजूसी मत किया करो.

No comments:

Post a comment